सागर सी गहराई हो
पर्वत सी ऊँचाई हो
रोम - रोम में खुशहाली हो
हर दिल में सच्चाई हो

गुरुवार, 14 मई 2009

मुक्तक : आदेश कुमार पंकज

सूरज , चाँद , सितारों के , द्वारे पर तम् के पहरे हैं ।
अनगिनत घाव दे मत पूछो , कि वे कितने गहरे हैं ।
चप्पे - चप्पे पर खड़े हुये, है घेरा बना लुटेरों का ,,
कौन करे विश्ववास द्रोण पर , जब कौरव के घर ठहरें हैं ।

तपस्या : आदेश कुमार पंकज

सत्य बोलना
एक
तपस्या है
और
उस पर अडिग रहना है
एक
आत्म विश्वास


दोहा : आदेश कुमार पंकज

पंकज बाती प्रेम की , शिखा दया सी होय
ऐसा दीपक जब जले , अन्त निशा का होय
देने वाला है दे रहा ,दोनों हाथ पसार
पंकज उतना ही पायेगा , जितनी है तेरी सार

दोहा :आदेश कुमार पंकज

राम नाम तू जप सदा , उन पर रख विश्वास
पूरी करतें हैं सदा ,मन में जो भी आस
द्रव्य के हर रूप में , जैसे नीर समाय
पंकज जैसा काल हो , वैसा ही हो जाय
हर पल गुण बढते वहाँ , जहाँ सद्जन का साथ
तन ,मन सब मैला करे ,जो होवे दुर्जन का साथ

मंगलवार, 12 मई 2009

गीत :आदेश कुमार पंकज

अनुपम धरा के उठो तुम सपूतों ,
खिलो और खिलाओ अपने चमन को
लम्हाँ हर लम्हाँ खुशियाँ मिलें ,
भारत का जन -जन फूले फले
रहे भाल ऊँचा सदा
तीर सहकर भी तुम सदा ,
यहाँ हँसतें रहो
वैभव बड़े सदा ही तुम्हारा ,
श्यामलता झाँके आँगन तुम्हारा
सहसा मिले यदि कोई तुम्हें ,
मान उसको देना सदा ,
जयकार होगी तुम्हारी सदा

आदेश कुमार पंकज : प्रार्थना


हम सब नन्हे बालक नादान ,
हम पर दया करो भगवान ।

विद्या ,बुद्धि - शक्ति दे दो ,
दे दो हमको भी कुछ ज्ञान ।
इस जग का हर प्राणी भी तो ,
है तेरी ही - संतान ।
हम सेवा आदर करें सभी का ,
दे दो हमको यह वरदान ।
दीन दुखी कहीं कोई न हो ,
तुम कर दो सबका कल्याण ।
समरद्ध रहे देश हमारा,
कृपा करो हे कृपा- निधान ।

मुक्तक :आदेश कुमार पंकज

चीर कर वक्ष देख आओ , व्योम का आधार क्या है
नाप कर उर देख आओ , धरा का आकर क्या है
तुम युग के सूरज हो , युग मानव हो ,
झाँककर तुम देख आओ क्षितिज के उस पर क्या है


तुम यदि ठान लो , तो सूर्य अश्वों का मुँह मोड़ सकते हो
तुम यदि ठान लो , तो मदमस्त तूफ़ान को भी रोक सकते हो
तुम भरत- पुत्र हो , अपने को पहचानो ,
चाँद करे यदि गददारी , तो राहू को चाँद बना सकते हो

कर्म ; आदेश कुमार पंकज

मिल जाती जो सहज सफलता ,
क्षण - भंगुर वह होती है
दुर्गम पथ से मिली सफलता ,
युगों - युगों तक रहती है
इसीलिये प्यारे बच्चों ,
सत्य मार्ग अपनाओ तुम
कर्म बड़ा है इस जग में ,
इस सच्चाई को मानो तुम

मुक्तक : आदेश कुमार पंकज

दोष मैं देता नहीं हूँ अदभुतको गगन को ,
दोष मैं देता नहीं हूँ उसके सृजन को ,
पंख मद में चाहा था नापना इस व्योम को ,
अल्प पथ में थक गया मैं ,रो रहा उसकी चुभन को

बन्दर बाबू : आदेश कुमार पंकज


बन्दर बाबू ने सोचा था ,
बी पास
करूँगा
ऊँचा अधिकारी बनकर ,
सब पर राज करूँगा

फ़ेल हो गये बन्दर बाबू ,
अब तो थे - मजबूर
अधिकारी बनने का सपना ,
हो गया - चकनाचूर ।

सोमवार, 11 मई 2009

गुड़िया : आदेश कुमार पंकज


मेरी बिटिया मम्मी के संग ,
एक गुड़िया लेकर आयी
उस गुड़िया के संग खेलने ,
पिंकी , मिंकी ,रिंकी आयीं

ऊँचीं , लम्बी नाक वाली ,
मोती जैसी आँखों वाली
गोरे - गोरे गालों वाली ,
सुंदर घुँघराले बालों वाली

रंग बिरँगी यह गुड़िया है ,
लगती जादू की पुड़िया है
जब रोये , घर बार हिला दे ,
सबको नाकों चने चबा दे

छुप्पा - छुप्पी : आदेश कुमार पंकज



चन्दा मामा नीलाम्बर में ,
कभी निकलते , कभी हैं छिपते
चन्दा मामा हमें बता दो ,
किस पथ तुम हो चलते फिरते
छुप्पा - छुप्पी का यह खेल ,
हमको भी सिखलाओ तुम
हम सब बच्चे तुम्हें बुलाते ,
अब , नीचे भी जाओ तुम

इन्द्रधनुष : आदेश कुमार पंकज


नीला , पीला और बैंगनी ,
हरा , लाल - नारंगी
आसमान में बना हुआ है ,
इन्द्र धनुष सतरंगी । ।

गुरुवार, 7 मई 2009

आदेश कुमार पंकज :सीता राम

सीता राम जय सीताराम
सबके रक्षक सीता राम
कौशल्या का नंदन जो ,
अवधपुरी का चंदन जो ,
जन - जन का है वंदन वो ,
सीता राम जय सीता राम
सबके रक्षक सीता राम । ।
मात - पिता की आज्ञा धारी ,
चौदह वर्ष हुए वन चारी ,
राज्य - भोग को त्याग दिया ,
सीता राम जय सीता राम
सबके रक्षक सीता राम । ।
खर -दूषण को मार गिराया ,
रावण को था मजा चखाया ,
राज्य विभीषण को दिलवाया ,
सीता राम जय सीता राम
सबके रक्षक सीता राम । ।
सबके पालन हार हैं जो ,
सबके तारण हार हैं जो ,
हम सबके आधार हैं जो ,
सीता राम जय सीता राम
सबके रक्षक सीता राम । ।
दीनबन्धु - दीनेश्वर वो ,
जगती के जदीश्वर वो ,
कण - कण के परमेश्वर वो ,
सीता राम जय सीता राम
सबके रक्षक सीता राम । ।

आदेश कुमार पंकज : राधे श्याम

राधे श्याम जय राधे श्याम
प्रेम से बोलो राधे श्याम ।।
इधर जो देखूँ राधे श्याम ,
उधर जो देखूँ राधे श्याम ,
जिस दिश देखूँ राधे श्याम ,
राधे श्याम जय राधे श्याम
प्रेम से बोलो राधे श्याम
मुख जो खोलूँ राधे श्याम ,
शब्द जो बोलूँ राधे श्याम ,
जिसे पुकारूँ राधे श्याम ,
राधे श्याम जय राधे श्याम
प्रेम से बोलूँ राधे श्याम
स्वप्न जो देखूँ राधे श्याम ,
नयन् जो खोलूँ राधे श्याम ,
कर्ण सुने जो राधे श्याम ,
राधे श्याम जय राधे श्याम
प्रेम से बोलो राधे श्याम
पाया जो भी राधे श्याम ,
खोया जो भी राधे श्याम ,
दिनचर्या हो राधे श्याम ,
राधे श्याम जय राधे श्याम
प्रेम से बोलो राधे श्याम
कर्म सदा कर राधे श्याम ,
इच्छा मत कर राधे श्याम ,
सफल करेंगे राधे श्याम ,
राधे श्याम जय राधे श्याम
प्रेम से बोलो राधे श्याम


बुधवार, 6 मई 2009

आदेश कुमार पंकज : बाबू जी


रोज़ समय पर पढ़ना है ,
अच्छे बच्चे बनना है ।
पढ्र लिख जब हम जायेंगे ,
बाबू जी कह लायेंगे ।
नहीं किसी से कभी डरेंगे ,
बाधाओं से सदा लड़ेंगे ।
ऊँचे - ऊँचे काम करेंगे ,
पापा जी नाम करेंगे ।

मंगलवार, 5 मई 2009

आदेश कुमार पंकज : वन्दना

माँ मुझे वन्दना स्वर दोमाँ मुझे वन्दना स्वर दो
चाहता हूँ विनती करना , पर शब्द मिलतें हैं नहीं
अब तो आकर आप ही शब्दों का मुझे अम्बार दो
माँ मुझे वन्दना स्वर दो .....................................
मैं निरा छल-दम्भ और , अभिमान से परिपूर्ण हूँ
अविवेक का तुम नाश कर मुझको भी माँ जी ज्ञान दो
माँ मुझे वन्दना स्वर दो ......................................
मैं हूँ अकेला मात मेरी , सहारा कोई इस जगत में
गिर रहा हूँ मात मेरी मुझको संभालों अंक दो
माँ मुझे वन्दना स्वर दो .....................................
चारों तरफ दुर्दिन हैं छाये , हैं घिरीं काली घटायें
अपनी दया भावना से माँ जीवन उज्जवल कर दो
माँ मुझे वन्दना स्वर दो ..................................
दिग् भ्रमित हो गया हूँ , निज पथ से मात मेरी
निर्द्वन्द हो उड़ता चलूँ मुझको दिशा दो पंख दो
माँ मुझे वन्दना स्वर दो ...............................
कभी भूलूँ मैं द्वार तेरा , गाऊँ सदा गुण गान तेरा
गीत लय ताल मुझमें नहीं आओ मुझे गी का तार दो
माँ मुझे वन्दना स्वर दो .....................................
तीनों लोकों में महिमा न्यारी , हर कोई माँ शरण तुम्हारी
आँचल फैलाये द्वार हूं माँ मेरा आँचल भर दो
माँ मुझे वन्दना स्वर दो ...........................................
चाँद , तारे और नभ यह , अब प्रफुल्लित हैं नहीं
घनघोर तम् का नाश कर माँ रवि उगा पंकज खिला दो
माँ मुझे वन्दना स्वर दो ....................................





आदेश कुमार पंकज : ओ वृन्दावन वनवारी

ओ वृन्दावन वनवारी , सुन लो अरज हमारी ।
द्वारे तेरे आया हूँ मोर मुकुट गिरधारी । ।
ओ वृन्दावन वनवारी ...........................
गोपिन के संग रास रचायो , काली दह में नाग नथायो ।
वृज ग्वालन संग धेनु चरायो बनकर माधव गिरधारी ॥
ओ वृन्दावन वनवारी ................................................
यमुना तट पे बंसी बजाई , माखन मिसरी दधी चुराई ।
उँगली पर वृज नगरी बचाई बनकर गोवर्धन धारी ॥
ओ वृन्दावन वनवारी ...........................................
भक्तों ने जब तुझे बुलाया , नंगे पैरों दौड़ा आया ।
द्रोपदी का चीर बढाया बनकर के दीनन हरी ॥
ओ वृन्दावन वनवारी ........................................
जब दीन सुदामा द्वारे आया , सरपट तूने गले लगाया ।
गुरु भाई का वचन निभाया बनकर मदन मुरारी ॥
ओ वृन्दावन वनवारी ...................................
नन्द बाबा का प्यारा छैया , लाला कहती जसुमति मैया ।
राधा जी का कृष्ण कन्हैया पंकज आया शरण तुम्हारी ॥
ओ वृन्दावन वनवारी ..............................................

Practice makes a man perfect : Mansi Gupta


Practice makes a man perfect this means that practicing something specific makes you perfect. Practice is something that is very important in everybody's life. If we will not practice, then we will not be able to achieve something in life like if a student will not study daily he will not be able to pass in the examination.
No one will ever be perfect, but can come very close to perfection if they practice a lot. If a singer will not do practice of music then he/she will not be able to sing properly. That's why it is said that 'Practice makes a man perfect'.
But the people who do not believe on this can never achieve anything in their whole life.
The people who practice a lot can achieve everything in life. They will always be forward in everything either in the studies or in anything.
Practice is something that every man can do but some foolish people don't want to understand it. Some students study before three-four days from examination. They are the ones who fails in the examination because they do not study everyday.
We will get achievement in life only when we will practice and study a lot. Without practice we can't do anything in life.

सोमवार, 4 मई 2009

घनाक्षरी : आदेश कुमार पंकज

अपना , अपना, अपना, अपना, अपना, अपना , अपना है
सपना , सपना , सपना , सपना , सपना , सपना , सपना है
अपना सपना , सपना अपना , अपना सपना , सपना है
मेरा सपना , तेरा सपना , हम सबका सपना , सपना है
जपना , जपना , जपना , जपना , जपना , जपना , जपना है
अपना जपना , जपना अपना , अपना अपना , जपना है
जपना सपना , सपना जपना , जपना , जपना , सपना है
अपना सपना , सपना जपना , सपना अपना , जपना है

नक्षत्र : आदेश कुमार पंकज

हिन्दी जगत के मूर्धन्य कवि श्री सुमित्रा नंदन पन्त जी के जन्म दिवस पर आयोजित कवि सम्मलेन में (उनकी कर्म स्थली काला कांकड़ में ) भाग लेने का सुअवसर प्राप्त हुआउनकी कर्म स्थली की दशा देखकर अनायास ही निम्न पंक्तियाँ फूट पड़ी
जाने कितने कवि बना दिये,
दे देकर तुमने सु-मन्त्र
करता हूँ , मैं तुम्हें नमन ,
काला कांकड़ के हे - नक्षत्र
जब सारा जग सोता था ,
तो प्रहरी तेरा जगता था
वह पन्त तेरा महापुत्र ,
महाकाव्य वह रचता था
दिवस गयी , रात्रि गयी ,
बदला सभी नज़ारा
वीरान हो गया आज वही ,
बदल गया जग सारा
खंडहर हुआ वह उचां टीला ,
कुछ इतिहास बताता है
महा समर की पुण्य भूमि है ,
यह संदेश सुनाता है
अब विहगों ने नीड़ बनाया ,
करते हैं - वहां बसेरा
धेनु रंभाती सुंदर प्यारी ,
पशु - तरु करें सवेरा
पन्त नहीं है आज वहां ,
यादों में रोता रोज़ नक्षत्र
कब आयेगा कर्म पुत्र वह ,
उसे बुलाता आज नक्षत्र

रविवार, 3 मई 2009

चंदा मामा : आदेश कुमार पंकज

नील गगन में चंदा मामा ,
हमको बहुत सुहाता है
कभी बहुत ही छोटा होकर ,
यह बच्चा सा बन जाता है
कभी फ़ैल जाता है इतना ,
हम सबका दादा लगता है
इसके बढने घटने का जादू ,
कोई समझ नहीं पाता है
कोई इसको देवता माने ,
खंडहर कोई बताता है
हवा नहीं पानी इस पर ,
यह विज्ञानं बताता है
चंदा मामा को अम्बर में ,
सूरज ही चमकाता है
कुछ भी हो पर चंदा मामा ,
स्वच्छ चाँदनी लाता है
नील गगन में चंदा मामा ,
हमको बहुत सुहाता है

मिठ्ठी ; आदेश कुमार पंकज


बहुत पुराना मेरे घर में ,
प्यारा - प्यारा तोता है

सुख - दुःख का साथी है ,

मैं जब सोता ,तो सोता है
रोज सवेरे जल्दी उठकर ,

राम - राम वह जपता है
घर में मेरे जो भी आये ,

राम - राम वह कहता है
मखमल जैसा हरा वदन ,
हरी मिर्च वह खाता है
मीठी बोली सदा बोलता ,
मिठ्ठी वह कहलाता है
रानी मुन्नी के साथ - साथ
प्रतिदिन खेला करता है
ख़ुद भूखा रह जाता है ,
पर उसको खाना देता है

मैं हूँ कोयल ; आदेश कुमार पंकज

मैं हूँ कोयल प्यारी - प्यारी,
हर पक्षी से मैं हूँ न्यारी ।
डाल - डाल पर फुदक
-फुदक कर
मैं मीठा गीत सुनाती हूँ ।
बागों की मैं रानी हूँ ,
सबमें खुशहाली लातीं हूँ ।
मीठे - मीठे संदेशों से ,
मैं सबका दर्द मिटाती हूँ ।
मैं हूँ कोयल मतवाली ,
मैं हूँ कोयल काली - काली ।
मिसरी जैसी मेरी बोली ,
मेरी कोयलिया कूँ - कूँ से ,
झूम उठे क्यारी - क्यारी ।
मैं हूँ कोयल प्यारी - प्यारी ।
हर पक्षी से मैं हूँ न्यारी ।



शनिवार, 2 मई 2009

आदेश कुमार पंकज की कविता - मछलियाँ

मछलियाँ , भयभीत हैं
घुटन सी महसूस करती हैं
जलाशय में कुछ
मगरमच्छ घुस आयें हैं
मछलियाँ , उठा लेतीं हैं ,
तलवार और ,
लड़ती हैं अन्याय के खिलाफ ,
अन्तिम साँस तक
मछलियाँ पातीं हैं
विजय और ,
रच देतीं हैं
एक नया इतिहास

आदेश कुमार पंकज का : गीत

यह दृश्य अपरचित लगता है ,
कोई घटना होने वाली है
कहीं बरस रहा झम - झम पानी ,
कहीं हवा चल रही तूफानी ,
कहीं पूरण का चंदा चमके ,
कहीं रात भयावह काली है
सब उल्टा - पुल्टा होता है ,
सोना भी मिट्टी होता है ,
जिस घर को अपना समझा था ,
वह घर अपनों से खाली है
कुछ अनचाहे मिल जाते हैं ,
कुछ बिन रोपें उग आते है ,
जिसको सींचा था पुष्प समझ ,
वह तो काटों की डाली है
कहीं फुटपाथों पर बचपन रोता ,
कहीं नर्म सेज पर कुत्ता सोता ,
कहीं सोने के थाल सज रहे ,
कहीं मिलती प्याली है
कहीं न्याय बिक रहा थानों में ,
कहीं जाम चल रहा मानों में ,
कहीं सूनी पड़ी झोपड़ी है ,
कहीं होती नित्य दीवाली है
कुछ सपनों को बुनते है ,
कुछ जीवन को चुनते है ,
जिसको मैं मौत समझता था ,
वह सच्ची जीवन थाली है

शुक्रवार, 1 मई 2009

आदेश कुमार पंकज की - तेवरी

स्वप्न देखा जो मैंने , हवा हो गया
जिसको समझा था अपना जुदा हो गया
खुशी में उछलते रहे हम सदा ,
जीवन यहाँ बुलबुला हो गया
होनी किसी को नहीं छोड़ती ,
चाँद सूरज पर भी ग्रहण हो गया
जय और पराजय से ऊपर उठा जो ,
हर मोड़ पर वह सफल हो गया
खेलता जूझता जो तूफ़ान से है ,
पंकज वही तो अमर हो गया

हिन्दी में लिखिए

Hindi Blog Tips

TIPS

HONESTY IS THE BEST POLICY
LAUGHTER IS THE BEST MEDICINE
Loading...

समर्थक

ब्लॉग आर्काइव

मेरे बारे में

मेरी फ़ोटो
नाम : आदेश कुमार पंकज पिता का नाम :( स्व०) श्री किशोरी लाल गुप्ता माता का नाम : श्रीमती पुष्पावती गुप्ता जन्म तिथि : ३०.०६ 1963 जन्म स्थान : शाहजहाँपुर (उ .प्र .) शिक्षा : एम ० एस - सी० ( गणित शास्त्र ) एम ० ए० ( अर्थ शास्त्र ) बी० एड० साहित्यिक परिचय : अनेकों कहानी व् कविताएँ विभिन्न पत्र - पत्रिकाओं में प्रकाशित | आकाशवाणी लखनऊ से बाल कविताएँ प्रचारित | अनेकों कवि सम्मेलनों कि अध्यक्षता व् संचालन | कस्तूरी कंचन आगमन संस्था द्वारा प्रकाशित एवम दोहा कलश संयुक्त दोहाकारों के रूप में प्रकाशाधीन | पुरस्कार : अखिल भारतीय वैश्य समाज शाहजहाँपुर द्वारा वैश्य रत्न से सम्मानित | कई कवि सम्मेलनों में विशेष सम्मान | माननीय शिक्षा मंत्री भारत सरकार श्रीमती स्मृति ईरानी द्वारा सम्मानित | विधालय प्रबंधन द्वारा लगातार आठ वर्षों से सम्मानित | वर्तमान में आदित्य बिरला पब्लिक स्कूल , रेनुसागर , सोनभद्र (उ ,प्र .) में प्रवक्ता गणित शास्त्र के पद पर कार्य रत | संपर्क : जूनियर ४५ - ए रेनुसागर ,सोनभद्र (उ.प्र.)- २३१२१८ मोब .नंबर . ९४५५५६७९८१

arnava

THANKS FOR VISITING